सभी बहनों को इस दिन का बेसब्री से वेट रहता है। ताकि वो अपने भाई के सलामती के लिए राखी बांध सके। इसके साथ ही इस दिन पैसे के लिए भाईयो की बहुत टांग खिंचाई भी होती है। आइए जानते है इसके मुहूर्त और महत्व के बारे में । 

 Raksha Bandhan muhurat : 2023 

 इस बार कई लोगो के बीच में इसकी डेट को लेकर मतभेद हो रहा है। लेकिन ज्योतिष के अनुसार सावन पूर्णिमा तिथि 30 अगस्त सुबह 10:58 से शुरू होगा और 31 अगस्त को इसका समापन होगा लेकिन फिर भी दिन में 30 ऑगस्ट को राखी नही बांध सकते है क्युकी  इस टाइम raksha Bandhan : 2023 भद्रा काल रहेगा ।.

आप इस बार raksha Bandhan muhurat 2023 को 30 अगस्त की रात 9 बज के 1 मिनट के बाद से मना सकते है। यही समय raksha Bandhan मनाने के लिए सही है। इस दिन बहन भाई के तिलक कर उसकी राखी बांधती है। उसका मुंह मीठा करती है। जिसके बाद भाई उसे अपने मन से कोई गिफ्ट देता है। सभी भाई ज्यादातर अपनी बहनों को पैसे देते है। 

इस त्योहार का अपना महत्व है। इस त्योहार से बहन भाई का प्यार बढ़ता हैं। बहने अपने भाई के लम्बी उम्र के लिए सलामती मांगती है। वही दूसरी ओर भाई भी अपनी बहन की रक्षा का प्रण लेते है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार माता लक्ष्मी ने सबसे पहले राजा बलि के रखी बांध कर यह प्रथा शुरू की थी। 

माता लक्ष्मी जी ने राजा बलि के राखी बांध उस से अपने पति भगवान विष्णु को मांग लिया था । बहन के कहने पर राजा बलि ने भी सहर्ष उनकी बात मान ली थी। उस दिन सावन की पूर्णिमा थी। तब से यह त्योहार मनाया जाता है। और अब के समय में तो यह डिजिटल भी होने लगा है। ऑनलाइन ही दूर रहने वाले भाई को राखी भेजकर भी यह मनाया जाने लगा है।